Tuesday , 25 June 2019
Home » Diabetes Care and Management » आंवला और डायबिटीज़ः कितना लाभकारी या कितना गुणकारी?

आंवला और डायबिटीज़ः कितना लाभकारी या कितना गुणकारी?

यूं तो आंवला का उपयोग दवाओं में किया जाता है और इसका जिक्र आयुर्वेद तक में है। लेकिन क्या यह डायबिटीज़ में गुणकारी है। अगर है तो कितना है ऐऔर नहीं है तो क्यों नहीं नहीं है। डायबिटीज़ से जूझ रहे प्रत्येक व्यक्ति के मन में यह सवाल जरूर कहीं न कहीं उठता होगा।

तो आपको पहले ही स्पष्ट कर दें कि आंवला किसी भी तरह से और कोई भी मर्ज में लाभकारी ही होता है और पार्टिकूलर डायबिटीज़ को लेकर बात करें तो यह विटामिन C, विटामिन AB कॉम्‍प्‍लेक्‍स, पोटैशिम, कैलशियम, मैग्‍नीशियम, आयरन, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर और डाययूरेटिक एसिड से होता हैं जो इस तरह के मरीजों के लिए और भी लाभकारी बन जाता है।

डायबिटीक के लिए संजीवनी की तरह है आंवला

आपको बता दें कि डायबिटीज़ के मरीज के लिए आंवला किसी संजीवनी  से कम नहीं है और इसमें पाया जाने वाला क्रोमियम इंसुलिन हारमोंस को मजबूत करते हुए ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल कर देता है।

आंवला पॉलीफेनॉल से भी लैस होता है जो हाई ब्लड शुगर कंट्रोल करता है।  पॉलीफेनॉल इंसुलिन के रेसिस्टेंस को रोकते हैं। यह क्रोमियम इंसुलिन बनाने वाले सेल्स को ऐक्टिवेट कर देता है जो कि सीधे तौर पर ब्लड शुगर को करता है।

रिसर्च में भी उतरा है खरा

कई रिसर्चों में भी यह बात साबित हो चूकी है कि आंवला शरीर की इम्‍यूनिटी (प्रतिरोधक क्षमता) दुरुस्‍त करने में मददगारहोता है। आंवला शरीर में मौजूद उन टाक्सिन पदार्थों को बाहर कर देता है जो फैट जमने के जिम्मेदार होते हैं।

आंवला ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस (तनाव) डायबिटीज़ और इससे जुड़ी जटिलताओं का मूल कारण है। इसलिए माना जाता है कि एंटीऑक्सिडेंट में समृद्ध पदार्थ ऑक्सीकरण (ऑक्सीडेशन) के हानिकारक प्रभाव को उलट सकते हैं और इस तरह, ये आपको डायबिटीज़ से निपटने में मदद कर सकते हैं।

इसके अलावा आंवला के नियमित सेवन से दिल की बीमारी, डायबिटीज, बवासीर, अल्सर, दमा, ब्रॉन्काइटिस और फेफड़ों की बीमारी में राम बाण का काम करता है।

कब और कैसे करें आंवले का उपयोग

एक्सपर्ट की मानें तो आंवले के ताजे फलों का इस्तेमाल किया जाए। ऐसे में अगर इसका स्वाद तीखा या खट्टा लगे तो खाने के तुरंत बाद आप थोड़े पानी का इस्तेमाल किया जा सकता है।

आप आंवले के जूस का भी उपयोग कर सकते हैं। इसके बीज को निकाल दें और गूदा निचोड़ते हुए रस निकालना शुरू करें। आप हर दिन इसका लगभग 5-10 मिलीलीटर जूस पी सकते हैं।

 

Get BeatO Glucometer with 10 strips at ₹449

Check Also

Understanding diabetes insipidus

Understanding Diabetes Insipidus

Have you heard of Diabetes Insipidus before? Does this ring the bell of diabetes in …

2 comments

  1. Useful information

    • Hello,

      Thank you so much for the appreciation.

      It is your support that helps us to do better.

      Sincerely
      Team BeatO

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *