Tuesday , 31 March 2020
Home » Diabetes Care and Management » डायबिटीज़ के लिए बेहतरीन नाश्तों के विकल्प

डायबिटीज़ के लिए बेहतरीन नाश्तों के विकल्प

डायबिटीज़ होने पर अपने ब्लड ग्लूकोस लेवल की नियमित जाँच करना बहुत ज़रूरी है।

डायबिटीज़ के पूर्ण नियंत्रण के लिए दवा, सही भोजन व व्यायाम ज़रूरी है।

लेकिन कुछ दवा या भोजन आपके शुगर लेवल को बढ़ा भी सकते हैं। भोजन में पाए जाने वाले मुख्य पोषण तत्व इस प्रकार हैं – कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन्स व फैट्स। भोजन करने पर हमारा शरीर उसे ग्लूकोस में बदल देता है जो उर्जा के लिए काम आता है और शरीर के नियमित कार्यों में मदद करता है।

डायबिटिज़ होने पर अपने भोजन व नाश्ते के विकल्पों को व्यवस्थित करना ज़रूरी है। कार्बोहाइड्रेट ग्लूकोज में परिवर्तित होने में कम समय लेते हैं और आमतौर पर रोटी, पास्ता, आलू और चावल में पाए जाते हैं। इसलिए इस तरह का भोजन कम खाना चाहिए।

कार्बोहाइड्रेट को गिनने का तरीका सीखने से आप जो भी खाते हैं उसकी योजना बनाने में मदद मिलती है। डायबिटिज़ के लिए बीच-बीच में स्नैकिंग बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि डायबिटीज़ में शुगर लेवल बार-बार उतार-चढ़ाव करते हैं। अगर आप इनसुलिन लेते हैं तो यह और भी ज़रूरी हो जाता है। अपने डॉक्टर की सलाह के हिसाब से आप दिन में 2-3 बार हेल्दी नमकीन स्नैक ले सकते हैं।

स्नैकिंग के कुछ विक्लप:

1.      जामुन के साथ दही: यह एक बढ़िया स्नैकिंग विकल्प है क्योंकि यह एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर है और शरीर से सूजन को कम करने में मदद करता है। यह कोशिकाओं और पैनक्रिया को नुकसान से बचाता है और ब्लड ग्लूकोस को कम करने में मदद करता है।

2.      बादाम या नट्स: बादाम पोषण में उच्च होते हैं और मधुमेह वाले लोगों में ब्लड शुगर को नियंत्रित करने में मदद करते हैं। बादाम भी दिल के लिए अच्छे होते हैं और अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने के दौरान खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करते हैं। लेकिन चूंकि बादाम कैलोरी में अधिक होते हैं, इसलिए सलाह दी जाती है कि केवल एक मुट्ठी भर लें।

3.      चिया बीज: चिया मधुमेह के लिए एक हेल्दी स्नैक विकल्प है क्योंकि यह पोषण में समृद्ध है और ब्लड ग्लूकोस के स्तर को स्थिर करने में मदद करता है। यह ओमेगा -3 और फाइबर से भरपूर होता है।

4.      फ्लेक्स बीज: फ्लेक्स बीजों को हेल्दी बीज माना जाता है क्योंकि यह ओमेगा-3 एसिड, और अधिक फाइबर से भरपूर होता है। यह कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड के स्तर में सुधार करने और गुर्दे के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है। फ्लेक्स बीज में एएलए (अल्फा-लिनोलेनिक एसिड) भी होता है जो दिल की सेहत के लिए फायदेमंद होता है।

5.      चिक पीस: उन्हें garbanzo सेम भी कहा जाता है। यह एक अविश्वसनीय रूप से स्वस्थ फल है। शोध का कहना है कि नियमित रूप से खाने पर चिक पीस डायबिटीज़ की प्रगति को रोकने में मदद कर सकते हैं।डायबिटीज़ होने पर क्या ना खाएं:

  • मीठे पेय पदार्थ: वे कार्बोहाइड्रेट व फ्रक्टोज़ से भरपूर होते हैं जो इंसुलिन प्रतिरोध से जुड़े होते हैं।
  • ट्रांस फैट: यह ज्यादातर मूंगफली का मक्खन, जमे हुए रात के खाने आदि जैसे खाद्य पदार्थों में पाया जाता है। वे सूजन में वृद्धि करते हैं और पेट की चर्बी में योगदान देते हैं।
  • सफेद ब्रैड: वे उन कार्बोहाइड्रेट से भरपूर होते हैं जो आमतौर पर बेक्ड ब्रेड, पास्ता और आटे में पाए जाने वाले कार्बोस में अधिक होते हैं।
  • फलों के स्वाद वाला दही: जहाँ सादा दही लाभ करता है, फलों के स्वाद वाले दही से बचा जाना चाहिए क्योंकि इसे बिना फैट या कम फैट वाले दूध से बनाया जाता है जिसकी वजह से इसमें चीनी और कार्बोहाइड्रेट अधिक मात्रा में होते हैं।

Check Also

Emergence of Type 1 and Type 2 Diabetes amongst the Indian Youth

Emergence of Type 1 and Type 2 Diabetes amongst the Indian Youth

“Youth is the future. Youth is the best time. The way in which you utilize …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *