Sunday , 9 August 2020
Home » Diabetes Care and Management » डायबिटीज़ और शराबः शरीर को किस तरह करता है प्रभावित?

डायबिटीज़ और शराबः शरीर को किस तरह करता है प्रभावित?

आजकल घर पर ही एक दो-पैग ले लेना आम बात है, लेकिन अगर कोई डायबिटीज़ से जूझ रहा है तो उसके लिए यह चिंता की बात हो सकती है। क्योंकि शराब का शरीर पर बहुत बूरा प्रभाव पड़ता है। हालांकि टाइप 2 डायबिटीज़ का सटीक कारण अभी तक स्पष्ट नहीं हो पाया है क्योंकि इसके लिए पारिवारिक इतिहास, आयु और लाइफस्टाइल भी ज़िम्मेदार हो सकता है।

शराब खुद में समस्या का कारण नहीं है, लेकिन इसमें बहुत सी कैलोरी होती है, जो वज़न बढ़ाने के साथ-साथ कई और समस्याओं का कारण बन सकता है। इसलिए एक्सपर्ट भी कहते हैं कि एक अच्छी लाइफस्टाइल को अपनाने के क्रम में शराब का परित्याग कर देना ही सबसे बेहतर विकल्प है।

अगर आप आदतन रोज पी रहे हैं तो संयम बरतें और किसी तरीके से भी इसे छोड़ने का प्रयास करें। अगर आप इंसुलिन या डायबिटीज़ के लिए दवाओं का उपयोग कर रहे हैं, तो आपके लिए शराब हानिकारक हो सकता है। क्योंकि इससे आपका ब्लड ग्लूकोज़ लेवल बढ़ या घट जाता है।

अगर आप अपनी दवा के बारे में निश्चित नहीं है कि तो जिस दवा का सेवन कर रहे हैं, उसके दुष्प्रभावों के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें। अगर कोई नियमित तौर पर खाली पेट शराब का सेवन करता है कि उसमें हाइपोग्लाइसेमिया बढ़ने की संभावना बढ़ जाती है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि यकृत दिन में दो बार ही काम करता है और यह ब्लड ग्लूकोज़ लेवल को स्थिर रखने की कोशिश करता है।

इस परिस्थिति में अगर आप शराब का सेवन करते हैं तो आपका ब्लड शुगर लेवल गिर भी सकता है। इसलिए अपने जिगर की सुरक्षा के लिए आपको शराब का सेवन कम करने की ज़रूरत है।

कई मामलों में नशे की लत के कारण हाइपोग्लाइसीमिया की स्थिति उत्पन्न हो जाता है। इसलिए हर समय अपने मेडिकल किट और आईडी को अपने साथ ले जाना सुनिश्चित करें।

ध्यान देने वाली बात

यहां ध्यान देने वाली बात यह है कि कई लोग डायबिटीक न्यूरोपैथी से भी ग्रस्त हैं। ऐसे में अगर आप शराब का सेवन कर रहे हैं तो आपकी स्थिति बिगड़ सकती है। वास्तव में, शराब उन लोगों में भी तंत्रिका क्षति का कारण बनता है जो डायबिटीक नहीं हैं।

जब भी डायबिटीज़ और शराब के सेवन की बात आती है तो एक्सपर्ट हमेशा सलाह देते हैं कि या तो इसे पीना बंद कर दें या सीमित करें। लेकिन फिर भी अगर कभी कभार सेवन कर रहे हैं तो सुरक्षित समय में पीना सुनिश्चित करें।

बरतें यह सावधानी

अपना खान-पान दुरूस्त रखें, नियमित व्यायाम करें और अपने ब्लड शुगर लेवल की नियमित निगरानी करना सुनिश्चित करें। तभी आप अपने डायबिटीज़ को बेहतर ढ़ंग से प्रबंधित कर सकते हैं। आप अपने ब्ल़ड शुगर लेवल की रीडिंग पाने के लिए बीटओ स्मार्टफोन ग्लूकोमीटर का भी उपयोग कर सकते हैं, जो कि कहीं भी, कभी भी तुंरत सटीक रीडिंग देने में सक्षम है।

Check Also

Make in India Initiative – BeatO CURV Smartphone Glucometer

Make in India Initiative – BeatO CURV Smartphone Glucometer

In his latest address to the nation, Indian Prime Minister Shri Narendra Modi Ji urged …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *