Sunday , 17 January 2021
Home » Diabetes Care and Management » बच्चों में डायबिटीज़ः इस डाइट प्लान से ब्लड शुगर होगा कंट्रोल

बच्चों में डायबिटीज़ः इस डाइट प्लान से ब्लड शुगर होगा कंट्रोल

डायबिटीज़ से पीड़ित बच्चों के लिए स्ट्रिक्ट डाइट करने की आवश्यकता नहीं है, लेकिन उनके खाने में कौन सी वस्तुएं शामिल हैं। इसकी निगरानी करना आवश्यक है, क्योंकि हेल्दी डाइट ही ब्लड शुगर को नियंत्रण में रखने की एकमात्र गारंटी है। लिहाजा एक्सपर्ट भी डायबिटीज़ से जूझ रहे बच्चों के लिए उचित भोजन योजना को बहुत जरूरी बताया है।

डायबिटीज़ से जूझ रहे बच्चों को पोषक तत्वों से युक्त खाद्य पदार्थों की आवश्यकता होती है ताकि उन्हें डायबिटीज़ के विकसित होने और उसे नियंत्रित करके वजन को कंट्रोल में रखने में मदद मिल सके। न्यूट्रीशन एक्सपर्ट के मुताबिक बच्चों को कार्बोहाइड्रेट से लगभग 50-60% हेल्ही फैट, 25-30% कैलोरी और  10-20% प्रोटीन प्राप्त करनी चाहिए।

इसके अलावा, हम सभी इस तथ्य से परिचित हैं कि ज्यादातर खाद्य पदार्थों में कार्बोहाइड्रेट पाए जाते हैं। ये शरीर के लिए उस आवश्यक इनेर्जी की आपूर्ति करते हैं, जिससे बच्चे का शरीर और मस्तिष्क सर्वश्रेष्ठ तरीके से अपना काम करता है।

अपने बच्चे को अनाज और सब्जियों जैसे जटिल कॉर्ब्स की ओर ले जाएं। इनके पास खनिज और विटामिन होते हैं जो उन्हें फिट रखते हैं और इससे फाइबर भी प्राप्त होता है जो ग्लूकोज के लेवल को नियंत्रित करने में मदद करते हैं।

बच्चों को पास्ता, रोटी या अन्य संसाधित वस्तुएं जैसे अनाज, टाफी आदि से हमेशा दूर रखें, क्योंकि ये सभी ब्लड ग्लूकोज के लेवल को तेजी से बढ़ा सकते हैं। शक्कर, कैंडी, कुकीज़ या सोडा जैसे शर्करा वाले खाद्य पदार्थों को सीमित करें।

कई लोग ग्लूकोज के लेवल को भोजन में कार्बोस की संख्या की गणना करके संतुलित करते हैं, फिर इसके लिए इंसुलिन खुराक लेते हैं, लेकिन हमारी आपको सलाह है कि आप ऑनलाइन माध्यम से भी बच्चे के आहार के आधार पर कार्बोहाइड्रेट की गणना कर सकते हैं।

ये 6 चीजें हैं सबसे जरूरी

एक “एक्सचेंज प्लान” के साथ, आपके बच्चे के मेनू में 6 अलग-अलग खाद्य समूहों को रखने की सलाह दी जाती है। इनमें सब्जी, फल, दूध, स्टार्च, मांस और फैट आदि शामिल है।

प्रोटीन, वसा कार्बोज और कैलोरी को एक ही मात्रा के साथ दिया जा सकता है। डायबिटीज़ एक्सपर्ट बच्चों के लिए, अक्सर कार्बोहाइड्रेट एक्सचेंजों पर जोर देते हैं, क्योंकि इससे ब्लड ग्लूकोज का लेवल सबसे ज्यादा प्रभावित होता है।

डायबिटीज़ से जूझ रहे बच्चों में हृदय रोगों के विकसित होने का भी जोखिम बना रहता है। इसलिए बच्चे को फैटी खाद्य पदार्थों से दूर रखना अच्छा होता है। इनमें खासकर संतृप्त वसा, कोलेस्ट्रॉल और ट्रांस वसा शामिल है।

नमक को करें कम

नमक के कम सेवन पर जोर दें। बहुत अधिक सोडियम के सेवन से ब्लड प्रेशर का भी खतरा बढ़ सकता है और सबसे जरूरी बात ये कि डायबिटीज़ को केवल खान-पान के जरिए ही कंट्रोल में नहीं रखा जा सकता है।

इसके लिए डॉक्टर की नियमित सलाह और ब्लड शुगर लेवल की नियमित निगरानी रखना भी जरूरी होता है। आप ब्लड शुगर लेवल की रीडिंग को प्राप्त करने के लिए बीटओ स्मार्टफोन ग्लूकोमीटर का उपयोग कर सकते हैं।

Check Also

BeatO Unbeatables - Mr. Shaikh

BeatO Unbeatables: Mr. Shafi Shaikh: My HbA1C levels reduced from 8.3 to 7.8 in just 3 months!

Unbeatable Mr. Shafi Shaikh 38 y.o. Works as an engineer for a manufacturing company Diagnosed …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *