Thursday , 28 October 2021
Home » Diabetes Care and Management » क्या उपवास के जरिए भी डायबिटीज़ हो सकता है कंट्रोल? जानिए

क्या उपवास के जरिए भी डायबिटीज़ हो सकता है कंट्रोल? जानिए

डायबिटीज़ से जूझ रहे लोगों को संतुलित खानपान और डायटिंग करने का सलाह दिया गया है। कई लोगों का मानना है कि डायबिटीज़ खाने में मौजूद ग्लूकोज की मात्रा से बढ़ता है। ऐसे में कई लोग इससे बचाव के लिए उपवास करने की भी सलाह देते हैं, लेकिन यह सलाह कितना सही या कारगर है? हम इस लेख में यही जानने जा रहे हैं..

हाल ही में प्रकाशित हुई एक रिपोर्ट के आधार पर दावा किया गया है कि अगर हफ्ते में दो दिन उपवास रखा जाए और पांच दिन सामान्य खानपान किया जाए तो डायबिटीज़ पर कंट्रोल पाया जा सकता है।

ऑस्‍ट्रेलिया स्‍थित यूनिवर्सिटी ऑफ साउथ के विशेषज्ञों ने दावा किया है कि कैलोरी नियंत्रित करने वाली डाइट की जगह डायबिटीज़ को अन्य तरीके से भी नियंत्रित किया जा सकता है।

क्या कहता है शोध?

एक्सपर्ट ने अपने शोध के आधार पर दावा किया है कि टाइप 2 डायबिटीज़ को नियंत्रित करने के लिए वजन को कंट्रोल करना बहुत जरूरी है, लेकिन अगर हफ्ते में दो दिन उपवास रखा जाए तो मरीज की कैलोरी की खपत 600 कैलोरी ही रहेगी। उन्होंने कहा कि डायबिटीज़ नियंत्रित करने के लिए कैलोरी आधारित डाइट लेना आम बात है।

हफ्तेभर की कैलोरी होती है नियंत्रित

पूरे हफ्ते नियंत्रित डाइट लेना मुश्‍किल होता है, खासतौर से उन लोगों के लिए जो एक तरह के खानपान पर नहीं टिक पाते हैं। इनकी स्‍थिति और खराब होने का खतरा होता है। इसलिए हफ्ते में दो दिन उपवास करना भी बेहतर विकल्‍प हो सकता है।

डायबिटीज के मरीज अन्य तरीकों से भी अपने हफ्तेभर की कैलोरी को नियंत्रित कर सकते हैं। इसमें लगातार दो दिन उपवास नहीं रखना है, बल्‍कि अपनी सुविधा से किया जा सकता है। टाइप 2 डायबिटीज के मरीजों को पौष्‍टिक खाना खाने की सलाह दी जाती है, ताकि उनका ब्‍लड शुगर का स्‍तर सामान्य रखा जा सके।

क्या कहते हैं एक्सपर्ट?

फिलहाल डायबिटीक एक्सपर्ट की मानें तो डायबिटीक व्यक्तियों को फास्ट से बचना चाहिए और उन्हें दो से तीन घंटे पर कुछ न कुछ हेल्दी चीजों का सेवन करना चाहिए। क्योंकि फास्ट की परिस्थिति में व्यक्ति का ब्लड शुगर बढ़ जाता है या कभी-कभी अत्यधिक कम हो जाता है, जो कि बहुत हानिकारक साबित हो सकता है।

दरअसल डायबिटीज़ में दवा लेना बहुत जरूरी होता है और बिना कुछ खाए दवा लेने से हाइपोग्कालाइसीमिया(लो ब्लड शुगर) हो जाता है, जो कि जानलेवा साबित हो सकता है।

हालांकि डायबिटीज़ की परिस्थिति में उपवास सहायक नहीं रहता है, जबकि वह नुकसानदायक हो सकता है। आपको नियमित रूप से डायबिटीज़ को कंट्रोल करने के लिए अपने आहार, शारिरिक व्यायाम और दैनिक दिनचर्या का ध्यान रखना पड़ता है।

साथ ही नियमित तौर पर डॉक्टर की सलाह और ब्लड शुगर की निगरानी रखना आवश्यक है। आप अपने ब्लड शुगर लेवल की निगरानी के लिए बीटओ स्मार्टफोन ग्लूकोमीटर का भी उपयोग कर सकते हैं। यह कहीं भी, कभी भी सटीक ब्लड शुगर रीडिंग देने में सक्षम है।

Check Also

How is high blood pressure related to diabetes?

WHAT IS HYPERTENSION / HIGH BLOOD PRESSURE? Blood pressure is the pressure that your heart …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *