Home»Blog»योगा और फिटनेस » मधुमेह प्रबंधन के लिए वरदान है यह छह योग आसन

मधुमेह प्रबंधन के लिए वरदान है यह छह योग आसन

3572 0
Plow pose
5
(6)

WHO के 2014 के सर्वेक्षण के अनुसार, दुनिया भर में 422 मिलियन से भी ज्यादा लोग मधुमेह से पीड़ित है हैं। बढ़ती ख़राब जीवनशैली के कारण यह भविष्यवाणी की गई है कि 2030 तक होने वाली मृत्यु के कारणों के रूप में “मधुमेह” सातवें स्थान पर होगा। हालाँकि, आपकी जीवनशैली में कुछ बदलाव आपको मधुमेह को प्रबंधित करने और यहां तक की इसे नियंत्रित करने में भी मदद कर सकते हैं। मधुमेह रोगियों के लिए योग के फायदे जानने के लिए यह लेख पढ़ें।

योग न सिर्फ इंसुलिन उत्पादन में सुधार करता है बल्कि लो ब्लड शुगर लेवल (निम्न रक्त शर्करा) की संभावना को कम करने में भी मदद करता है। इसके अलावा, यह शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड के स्तर के उत्पादन को भी कम करता है। योग के फायदे सिर्फ शारीरिक स्वास्थ्य तक ही सीमित नहीं हैं। यह मन को शांत कर और एकाग्रता को बढ़ाकर मधुमेह में बहुत मदद कर सकता है

Free Doctor Consultation Blog Banner

मधुमेह में योग के क्या लाभ हैं

योग आपके शरीर के सिस्टम को स्वस्थ और मजबूत बनाने के लिए छोटी-छोटी खामियों को ठीक करने का काम करता है। योग का हर आसन हमारे दिन-प्रतिदिन के जीवन की हर समस्या का प्रभावी समाधान है, जिससे हमारा शरीर सेहतमंद और तनावमुक्त रहता है। लेकिन याद रखें कि हमें योग के किसी भी आसन का चयन सावधानी से करना चाहिए।

मधुमेह में योग: आज़माएं यह छह आसन

यह छह लाभकारी आसन और उन्हें करने के तरीके नीचे दिए गए हैं-

1 धनुरासन

इस आसन को धनुष मुद्रा या उर्दव चक्रासन के रूप में भी जाना जाता है। यह आसन पीठ को मजबूत बनाता है, मासिक धर्म के दर्द और अन्य असुविधाओं से राहत देता है।

निर्देश:

अपने पेट के बल पर सीधे लेट जाएं।

अपने हाथों को दोनों तरफ फैलाने के लिए अपने घुटनों को मोड़ें और अपने टखने(एंकल) को पकड़ें।

जैसे ही खुली हवा में सांस लें, अपनी छाती को जमीन से ऊपर उठाएं।

जब आप सीधे देखें तो अपनी सांसों पर ध्यान क्रेंद्रित करें। इस मुद्रा को पंद्रह से बीस सेकंड से ज्यादा न रखें।

जैसे ही आप साँस छोड़ते हैं, अपनी छाती को वापस ज़मीन पर लाएँ और अपनी एड़ियों को धीरे से छोड़ें।

यह आसन पेट फूलना और कब्ज से राहत दिलाकर पाचन में सुधार करता है। इसका लीवर, आंतों और अग्न्याशय(पेनक्रियाज) पर जादुई प्रभाव पड़ता है और इस प्रकार यह मधुमेह वाले लोगों के लिए फायदेमंद है।

2 अर्धमत्स्यासन

अर्धमत्स्यासन या वक्रासन को हाफ स्पाइनल ट्विस्ट और हाफ लॉर्ड ऑफ द फिश भी कहा जाता है। हालाँकि, यह आसन पेट में मरोड़ मासिक धर्म या गर्भवती महिलाओं के लिए सही नहीं है।

  • निर्देश:
  • घुटने टेकें और अपनी पीठ सीधी रखते हुए अपनी एड़ियों पर बैठें।
  • सांस लेते हुए अपने पैरों को दाईं ओर ले जाएं।
  • सहारे के लिए अपने हाथों को ज़मीन पर मजबूती से टिकाएँ।
  • अपने बाएँ पैर को अपने दाएँ पैर के ऊपर रखें।
  • सहारे के लिए अपनी दाहिनी एड़ी को अपने कुल्हे के करीब और बाएँ पैर को अपनी दाहिनी जांघ के करीब लाएँ।
  • अपनी बाहों को फैलाएं और अपने ऊपरी शरीर को बाईं ओर मोड़ें। सहारे के लिए अपने हाथों को जमीन पर टिकाएं।
  • धीरे-धीरे सांस छोड़ें और अपनी बाहों को फैलाकर अपने ऊपरी शरीर को खोल लें।
  • अपने बाएँ पैर को इस तरह हिलाएँ कि आप उसे उस जगह में ले आएँ जहाँ आपका बायाँ पैर अंदर है।
  • अपनी पुरानी मुद्रा में वापस आ जाएँ, जहाँ आप घुटनों के बल बैठ जाएँ और अपने कुल्हो को अपनी एड़ियों पर टिकाएँ।
  • इस व्यायाम को अपने दाहिने पैर से दोहराएं।

मधुमेह में लोगों को खाना पचाने में समस्या होती है। ऐसे में खाना आंतों में बना रहता है, जिससे ट्यूमर की संभावना बढ़ जाती है और खाने के सड़ने से अक्सर कोलन कैंसर हो जाता है। अर्धमत्स्यासन आंतों को साफ करता है और अग्नाशयी(पेन्क्रियाज) रस के स्राव(डिस्चार्ज) को बढ़ाता है, जो पाचन के साथ शरीर में विभिन्न शारीरिक गतिविधियों को पूरा करता है, और यकृत(लीवर) में डीटाक्सीफीकेशन की प्रक्रिया के दोनों चरणों में भी मदद करता है।

3 भुजंगासन

भुजंगासन को अक्सर कोबरा मुद्रा के रूप में जाना जाता है। थायराइड, स्लिप्ड डिस्क और गठिया जैसी सस्म्स्याओं को कम करने के लिए यह आसन प्रभावी है लेकिन भुजंगासन को हाइपोथायराइड रोगियों के लिए सही नहीं माना जाता है।

निर्देश:

  • अपने पेट के बल सीधे लेट जाएं।
  • अपने पैरों को एक साथ लायें। हालाँकि, पीठ दर्द को ठीक करने के लिए अभ्यास करते समय एक या दो फुट का अंतर रखें।
  • अपने हाथों को कोहनियों पर मोड़ें और उन्हें कंधे के पास टिकाएं।
  • अपनी छाती को जमीन से ऊपर उठाते हुए धीरे-धीरे सांस लें।
  • जैसे ही आपकी मांसपेशियां ढीली(रिलैक्स) हो जाएं, सीधे देखें।
  • धीरे-धीरे हवा को बाहर छोड़ें और अपनी छाती को वापस जमीन पर ले आएं।
  • अपने पैरों को एक साथ रखते हुए, मुद्रा को फिर से शुरू करने से पहले एक मिनट के लिए अपने पेट के बल लेट जाएं।

यह आसन पेट के निचले हिस्से में मौजूद सभी अंगों के काम करने की क्षमता बढ़ सकता है। यह रीढ़ की हड्डी को मजबूत करता है और पीठ की मांसपेशियों के दर्द को दूर करता है। किडनी को सिकोड़ कर, यह बोमन कैप्सूल की रुके हुए खून को प्रभावी ढंग से फ़िल्टर करने और शरीर से विषैले पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है। एवोकाडो और अखरोट से भरपूर आहार के साथ भुजंगासन का अभ्यास करने से ग्लूटाथियोन का स्राव बढ़ता है। यह आसन शरीर से विषैले पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है।

4 नौकासन

नौकासन, जैसा कि नाम से पता चलता है, शरीर को ‘नौका’ या नाव का आकार देता है। पद्मा साधना में इसका खास महत्व है, जहां इसका अभ्यास धनुरासन के बाद किया जाता है। अगर आप माइग्रेन, बार-बार होने वाले सिरदर्द, अस्थमा और हृदय संबंधी बीमारियों से पीड़ित हैं तो यह ये आसन आप बिलकुल नहीं कर सकते है।

निर्देश:

  • अपनी पीठ के बल पर लेट जाएँ।
  • अपने हाथों को अपने शरीर के पास रखें और अपने पैरों को एक साथ सटा लें।
  • सीधे देखें,अपनी आँखें, नाक और पैर की उंगलियों को एक पंक्ति में रखें।
  • धीरे-धीरे अपने दोनों पैरों और कंधों को एक साथ जमीन से ऊपर उठाएं।
  • जैसे-जैसे आपके पेट में तनाव बढ़ता है, मांसपेशियों को धीरे से सिकुड़ते हुए महसूस करें।
  • बीस सेकंड के लिए इसी स्थिति में रहें और अभ्यास के साथ धीरे-धीरे समय बढ़ाएँ।
  • धीरे से सांस छोड़ें और अपने दोनों कंधों और पैरों को वापस जमीन पर ले आएं।

फिर से, पेट के निचले हिस्से पर काम करते हुए, नौकासन अंगों और नाभि के क्षेत्र में वसा के जमाव को कम करता है। फेफड़ों, लीवर और पेनक्रियाज के सही दबाव में उजागर कर के, यह तेजी से पाचन, प्रभावी अवशोषण और पोषक तत्वों को समाने में मदद करता है। आंतों और मलाशय(इंटेस्टाइन) पर दबाव डालने से शरीर में ठोस अपशिष्ट पदार्थों से नियमित छुटकारा मिलने के साथ कब्ज कम हो जाती है।

5 हलासन

हलासन या हल मुद्रा मांसपेशियों के लिए उपचारात्मक है क्योंकि यह तनाव दूर करने के लिए खिंचाव और आराम देती हैं। यह आसन गर्दन और उस के क्षेत्र पर काफी दबाव डालता है, इसलिए इसका अभ्यास सावधानी से करना चाहिए। यह मन को कायाकल्प और सकारात्मकता के लिए भी तैयार करता है।

निर्देश:

  • अपनी पीठ के बल सीधे लेट जाएँ और अपनी बाँहों को अपने शरीर के दोनों ओर टिका लें।
  • गहरी सांस लें और अपने पैरों को फर्श से ऊपर उठाएं ताकि फर्श से नब्बे डिग्री का कोण बन जाए।
  • अपने हाथों की मदद से अपने कूल्हों और कमर को सहारा देते हुए धीरे-धीरे जमीन से उठाएं।
  • अपने पैरों को घूमने दें क्योंकि इस में पैर की उंगलियों को जमीन पर मजबूती से टिकाने के लिए एक सौ अस्सी डिग्री के घुमाव का अनुभव होता है।
  • अपने हाथों को शरीर के दोनों ओर रखें और पैंतालीस सेकंड तक इसी मुद्रा में रहें।
  • सांस छोड़ें और अपने कूल्हों और कमर को सहारा देकर अपने पैरों को फर्श से नब्बे डिग्री का कोण बनाते हुए हवा में लाएं।
  • सहारे को छोड़े बिना, अपने पैरों को वापस उस स्थिति में लाएँ जहाँ आप ज़मीन पर अपनी पीठ के बल लेटें।
  • तनाव और थकान दूर करने के अलावा, हलासन पाचन में सुधार कर के ब्लड शुगर लेवल को प्रभावी ढंग से नियंत्रित करता है। यह गैस और कमर दर्द को भी दूर करता है।

6 वज्रासन

वज्रासन या डायमंड पोज़ एक सरल बैठने का आसन है। इसका अभ्यास दिन के किसी भी समय किया जा सकता है। इस आसन को अक्सर विभिन्न अन्य आसनों और ध्यान के अभ्यास के लिए किया जाता है। इस आसन के नियमित अभ्यास से शरीर स्वस्थ और मजबूत बनता है।

निर्देश:

  • अपने घुटनों के बल बैठ जाएं.
  • ध्यान दे कि दोनों पैरों के पंजे छू रहे हों।
  • अपने कुल्हो को एड़ियों पर टिकाएं।
  • अपने हाथों को दोनों घुटनों पर रखें और हथेली आसमान की ओर रखें।
  • दो मिनट तक इसी मुद्रा में बने रहते हुए सांस लें और छोड़ें।
  • स्थिति को बनाए रखने के लिए समय अंतराल को धीरे-धीरे बढ़ाएं।

शरीर, पेट और पैरों की महत्वपूर्ण ताकत पर काम करते हुए, यह आसन कूल्हे की चर्बी को कम करने में मदद करता है, जो मुख्य रूप से महिलाओं में गर्भावस्था के बाद या रजोनिवृत्ति के दौरान होती है। वज्रासन एसिडिटी को ठीक करता है। यह यूरिया को प्रभावी ढंग से फ़िल्टर करने के लिए किडनी पर दबाव डालता है। परिसंचरण(सिर्कुलेशं) को बढ़ाकर, यह आसन घुटनों के दर्द से भी राहत दिलाता है, जो मोटापे और मधुमेह का एक और आम प्रभाव है।

मधुमेह के लिए इन छह आसनों का घर पर अभ्यास करें और इन्हें आज़माएं, भले ही वे पहले आप को मुश्किल लगें लेकिन यह आसन आपके ब्लड शुगर लेवल को प्रबंधित करने में चमत्कार कर सकते हैं। कुछ अनुशासन अपनाएं और, जैसा कि वे कहते हैं, छोटी-छोटी बातों का ध्यान आप रखें और बाकी चीजें अपने आप होती चली जाएंगी। अपने ब्लड शुगर लेवल में सुधार को ट्रैक करने के लिए, अपने लिए एक कॉम्पैक्ट ग्लूकोमीटर खरीदें। इसके अलावा, अपने ग्लूकोज के लेवल को प्रबंधित करने के प्रभावी तरीकों के बारे में ज्यादा जानकारी के लिए BeatO App डाउनलोड करें।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 5 / 5. Vote count: 6

No votes so far! Be the first to rate this post.

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?

Jyoti Arya

Jyoti Arya

As a professional content writer, I am a curious and self-motivated storyteller. Experienced of writing buzz-worthy feature articles, blogs, reviews, audio books and content marketing pieces. I have experience of the development of fictional and nonfictional content. I am passionate about bringing ideas to life and crafting compelling content to captivate audiences.

Leave a Reply