Home»Blog»डायबिटीज कम्प्लीकेशनस » उच्च बीएमआई और महिलाओं में पीसीओएस, डायबिटीज़ का खतरा होने के बीच एक मुश्किल कड़ी

उच्च बीएमआई और महिलाओं में पीसीओएस, डायबिटीज़ का खतरा होने के बीच एक मुश्किल कड़ी

249 0
0
(0)

अधिकांश महिलाएं बीएमआई (बॉडी मास इंडेक्स) शब्द से परिचित होंगी। लेकिन पीसीओएस (पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम) के बारे में कम ही लोग जानते होंगे। यह दोनों एक मुश्किल कड़ी के माध्यम से महिलाओं में डायबिटीज़ की समस्या से जुड़े हैं।

क्या ज्यादा वजन होना पीसीओएस का कारण बनता है? या पीसीओएस से महिलाओं का वजन बढ़ता है? यह कनेक्शन पूरी तरह से अभी समझा नहीं गया है। यह ज़रूर है कि मोटापा असामान्य एस्ट्रोजेन हार्मोन उत्पादन का कारण बन सकता है, खासतौर पर उन महिलाओं में जो बेली फैट(कमर में ज्यादा चर्बी ) की समस्या से ग्रसित है ।

वसा कोशिकाएं यानि फैट सेल एस्ट्रोजेन का ज्यादा मात्रा में उत्पादन करते हैं, जो अंडाशय और उनकी ओव्यूलेशन क्षमता को प्रभावित कर सकते हैं। हालांकि ज्यादा वजन पीसीओएस से जुड़ा हुआ है, लेकिन साथ ही सामान्य वजन वाली कई महिलाओं को भी पीसीओएस हो सकता है, और कई बार ज्यादा वजन वाली महिलाओं को पीसीओएस नहीं होता है। महिलाओं के बांझपन के सामान्य कारणों में से एक होने के साथ-साथ, आजीवन स्थिति के रूप में पीसीओएस शिशु को जन्म देने की अवधि के बाद भी जारी रह सकता है।

यह भी पढ़े: डायबिटीज़ मैनेजमेंट के लिए अपनाएं ये 5 मंत्र

हार्मोनल स्तर और अन्य मुद्दे

विस्तार में समझे तो, पीसीओएस एक हार्मोनल विकार है जो आमतौर पर प्रजनन आयु की महिलाओं में पाया जाता है, आमतौर पर 25 से 35 वर्ष के बीच। अधिक वजन होना जोखिम कारकों में से एक माना जाता है क्योंकि अधिक वजन इंसुलिन प्रतिरोध (रेजिस्टेंस)और प्रजनन हार्मोन के असामान्य स्तर का कारण बन सकता है। तो अगर पीसीओएस का सही समय पर इलाज न शुरू किया जाये तो यह बांझपन, गर्भाशय रेखा के कैंसर, डायबिटीज़ और कई स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है।

जब एस्ट्रोजेन, टेस्टोस्टेरोन और अन्य प्रजनन हार्मोन का स्तर ज्यादा होता है, तो इंसुलिन उत्पादन भी बढ़ता है। यह हाइपरिन्सुलिनमिया (जब रक्तप्रवाह में इंसुलिन का स्तर सामान्य से ज्यादा हो जाता है) और इंसुलिन प्रतिरोध (रेजिस्टेंस) की स्थिति की ओर जाता है – ऐसी स्थितियाँ जो संभावित रूप से प्रीडायबिटीज़ और टाइप 2 डायबिटीज़ (T2D) को ट्रिगर कर सकती हैं। PCOS वाली 50% से अधिक महिलाओं में 40 वर्ष की आयु तक T2D की समस्या विकसित हो सकती है।

उच्च इंसुलिन स्तर पीसीओएस का एक साइड इफेक्ट होने के अलावा, पीसीओएस के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता हैं, जिससे एक दुष्चक्र बन जाता है। इसके बाद, इंसुलिन का बढ़ा हुआ स्तर अंडाशय को अधिक टेस्टोस्टेरोन और अन्य हार्मोन का उत्पादन करने के लिए उत्तेजित करता है। बदले में, यह अन्य समस्याओं जैसे,अनचाहे बालों की ग्रोथ, वजन बढ़ने और अनियमित मासिक धर्म चक्र की समस्या की तरफ बढ़ सकता है।

अक्सर, पीसीओएस वाली महिलाएं इंसुलिन प्रतिरोधी होती हैं क्योंकि उनका शरीर इंसुलिन बनाता है लेकिन उनका शरीर इसका प्रभावी ढंग से उपयोग नहीं कर पाता है, जिससे टी2डी का खतरा बढ़ जाता है। पीसीओएस के सटीक कारण पता नहीं किया जा सका हैं, लेकिन इस में एण्ड्रोजन का सामान्य से अधिक स्तर एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। इस समस्या के बढ़ने के कारणों में ज्यादा वजन और फॅमिली हिस्ट्री शामिल हो सकते हैं, जो इंसुलिन प्रतिरोध से जुड़ा हुआ है। गौरतलब है कि पीसीओएस या टी2डी से समस्या से पीड़ित मां या बहन वाली महिलाओं में पीसीओएस विकसित होने की संभावना अधिक होती है।

इंसुलिन का अधिक और एसएचबीजी

(सेक्स-हार्मोन-बाइंडिंग ग्लोब्युलिन) के उत्पादन को भी कम कर सकता है, जिस कारण पुरुष हार्मोन का स्तर ज्यादा हो सकता है। पीसीओएस से पीड़ित कई महिलाएं ज्यादा वजन होने की समस्या से जूझती हैं क्योंकि इंसुलिन उन की भूख बढ़ाती है,जिस से उन की मीठा खाने की इच्छा और बढ़ती है। इसके अलावा, अगर फैटी एसिड ऑक्सीकरण बिगड़ा हुआ है, तो वह वसा यानि फैट को कम करने में मुश्किल बनता है, और वजन बढ़ने का कारण बन सकता है।

साथ ही इस में इंसुलिन प्रतिरोध एक और कारण हो सकता है। यहां, जीवनशैली और इंसुलिन प्रतिरोध पर एक बड़ा प्रभाव डालती है, मुख्य रूप से अगर अस्वास्थ्यकर आहार और फिज़िकल एक्टिविटी की कमी के कारण किसी महिला का वजन बढ़ा हुआ हैं। हालांकि इंसुलिन प्रतिरोध फॅमिली हिस्ट्री के कारण भी हो सकता है, लेकिन वजन कम करने से आमतौर पर इंसुलिन प्रतिरोध के कारण के बावजूद कुछ लक्षणों को कम करने में मदद मिलती है।

लक्षण और संभावित स्थितियां

महिलाओं को आमतौर पर कुछ स्थितियों में पता चल सकता है कि उन्हें गर्भवती होने में कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है, अक्सर यह उनके पहले मासिक धर्म के तुरंत बाद शुरू हो सकता है, यहां तक कि 11 या 12 साल की उम्र में भी। या यह उनके 20 या 30 की उम्र में विकसित हो सकता है। यह जांचने के लिए कि क्या किसी महिला को पीसीओएस है, उस के लिए नीचे दिए गए तीन में से कम से कम दो लक्षणों के लिए जाँच की जाती है:

1. अनियमित पीरियड्स या बिलकुल नहीं, ओव्यूलेशन की कमी के कारण होता है ।
2. पुरुष हार्मोन का स्तर ज्यादा होना जिस के कारण चेहरे / शरीर पर अनचाहे बाल, मुँहासे, या सिर का पतला ताल हो सकता है ।
3. ओवरी में छोटे – छोटे सिस्ट का होना ।

लेकिन ओवरी में सिस्ट का होना ही पीसीओएस की समस्या की पुष्टि नहीं करता । पीसीओएस वाली कई महिलाओं में ओवेरियन सिस्ट होते हैं जबकि कुछ महिलाओं में नहीं होते हैं।

महत्वपूर्ण रूप से, जैसा कि पहले कहा गया है, पीसीओएस गर्भावधिडायबिटीज़ का कारण बन सकता है। ऐसा तब होता है जब गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को शरीर में ग्लूकोज की समस्या का सामना करना पड़ता है। इससे समय से पहले प्रसव, सांस की समस्या, पीलिया और अन्य समस्याएं हो सकती हैं, और बच्चे को भी खतरा हो सकता है। गर्भकालीन डायबिटीज़ बाद में माँ और बच्चे दोनों के लिए T2D का कारण बन सकता है। नतीजतन, गर्भवती महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान आहार विशेषज्ञ और स्वास्थ्य शिक्षकों के साथ मिल कर इस सम्बन्ध में महत्वपूर्ण कदम उठाने चाहिए ताकि सही जीवनशैली और सही आहार उन्हें स्वस्थ रख सकें।

पीसीओएस गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं पैदा कर सकता है, जिनमें हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर और स्ट्रोक शामिल हैं, खास तौर पर अगर महिलाओं का वजन ज्यादा है। इसके अतिरिक्त, पीसीओएस चिंता और अवसाद से भी जुड़ा हुआ है, हालांकि यह पूरी तरह से स्पष्ट नहीं है।

पीसीओएस को प्रबंधित करने के उपाय

हालांकि पीसीओएस का कोई इलाज नहीं है, लेकिन इस स्थिति का इलाज और प्रबंधन संभव है। इस से होने वाले जोखिमों को कम करने के लिए इसमें समय, प्रयास और जीवनशैली की आदतों में बदलाव की ज़रुरत होती है। इसे शुरू करने के लिए, डॉक्टर की सलाह पर दवाएं ली जा सकती हैं जो हार्मोन के बढ़ते स्तर, मुँहासे और अनचाहे बालों की ग्रोथ जैसे लक्षणों का इलाज करने में मदद करती हैं।

अन्य महत्वपूर्ण लक्ष्य में जीवन शैली प्रबंधन प्रमुख है। इसमें वजन घटाने को सुनिश्चित करने के लिए किसी भी फिज़िकल एक्टिविटी को बढ़ावा देना शामिल है जो स्वास्थ्य समस्याओं को कम करते हुए एक महिला की अवधि और ओव्यूलेशन चक्र में सामान्य स्थिति को बहाल करने में मदद कर सकता है।

अंत में, यह सलाह दी जाती है कि ऐसी महिलाएं एक दिन में दो या तीन बार ज्यादा (हैवी) खाना खाने से बचें और इसके बजाय, इंसुलिन के स्तर में स्पाइक्स से बचने के लिए समय- समय पर थोड़ा – थोड़ा खाएं । उच्च बीएमआई और इस के परिणामों वाली महिलाओं के लिए स्वस्थ जीवन को बढ़ावा देने के लिए डॉक्टर की सलाह और जीवनशैली प्रबंधन (लाइफस्टाइल मैनेजमेंट) ही एक सही समाधान है ।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?

Leave a Reply