Home»Blog»डायबिटीज बेसिक्स » ऑफिस की नाईट शिफ्ट का असर, भूल कर भी मत करना जॉइन

ऑफिस की नाईट शिफ्ट का असर, भूल कर भी मत करना जॉइन

218 0
0
(0)

कई कम्पनियां अपने कर्मचारियों से नाईट शिफ्ट में भी काम करवाती है। व्यवसाय यथासंभव अधिक मात्रा में उत्पादन करने और बाज़ार की माँगों को पूरा करने के लिए रात भर काम करते हैं। लेकिन लंबे समय तक नाईट शिफ्ट का असर काम करने वाले कर्मचारी के स्वास्थ्य पर पड़ता है। इस लेख में, नाईट शिफ्ट का असर और उनसे निपटने के तरीकों के बारे में बताया गया है।

Free Doctor Consultation Blog Banner_1200_350_Hindi

नाईट शिफ्ट का असर

नाईट शिफ्ट में काम करना आपके शरीर को एक ऐसे शेड्यूल पर काम करने के लिए मजबूर करता है जो उसकी प्राकृतिक सर्कैडियन लय के विपरीत होता है। जैसा कि कहा गया है, अपने शरीर को दिन में सोने और रात में जागते रहने के लिए फिर से तैयार करना संभव है। लेकिन अगर यह ट्रेनिंग सही ढंग से नहीं की जाती है – या बिल्कुल भी नहीं की जाती है – तो आपको गंभीर चिकित्सा समस्याएं झेलनी पड़ सकती हैं। नाईट शिफ्ट का असर जानने के लिए नीचे दिए गए पॉइंट पढ़ें।

नाईट शिफ्ट का असर

यह भी पढ़ें: करेले की कड़वाहट देगी डायबिटीज को मात

नींद की हानि

नींद आपके संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। जब आप सोते हैं, तो आपका शरीर अपशिष्ट पदार्थों को बाहर निकालता है, चोट की मरम्मत करता है और तनाव कम करता है। नाईट शिफ्ट में काम करने से उन आवश्यक प्रक्रियाओं में बाधा आती है।

स्तन कैंसर का खतरा

जो महिलाएं रात भर काम करती हैं उनमें स्तन कैंसर होने का खतरा उन महिलाओं की तुलना में कहीं अधिक होता है जो केवल दिन में काम करती हैं। और इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप लगातार नाईट शिफ्ट में काम करते हैं या सप्ताह में सिर्फ एक रात।

यह भी पढ़ें: ईएसआर टेस्ट क्या है और क्यों किया जाता है?

दिल का दौरा पड़ने का खतरा

ब्रिटिश मेडिकल जर्नल में 2012 के एक अध्ययन में पता चला कि नाईट शिफ्ट में काम करने से व्यक्ति को दिल का दौरा पड़ने की संभावना सात प्रतिशत बढ़ जाती है। रिसर्चर का मानना ​​है कि नींद की आदतों में बदलाव रक्तचाप और परिसंचरण को प्रभावित करता है।

तनाव का खतरा

नाइट शिफ्ट में काम करने से आपके मानसिक स्वास्थ्य पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। कई अध्ययनों से पता चलता है कि जब आप नाईट शिफ्ट में काम करते हैं तो तनाव और मनोदशा संबंधी बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है।

यह भी पढ़ें: सीआरपी टेस्ट क्या है?: परिभाषा, उपयोग, फायदे

चेतनता कम होने का खतरा

नाईट शिफ्ट में काम करने के बाद आप खुद को जागते रहने और गतिशील रहने के लिए मजबूर करते हैं, लेकिन आपका शरीर काम करना बंद करना चाहता है। इससे फोकस, ध्यान और उत्पादकता में कमी आती है। कुछ नौकरियों में, जब आप अपने काम पर पूरा ध्यान नहीं दे पाते हैं, तो चोट लगने का खतरा नाटकीय रूप से बढ़ जाता है।

मेटाबोलिज्म बढ़ने का खतरा

आपका मेटाबोलिज्म आपके हार्मोन द्वारा नियंत्रित होता है। उदाहरण के लिए, हार्मोन लेप्टिन आपके वजन, ब्लड शुगर और इंसुलिन के स्तर को विनियमित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। नाईट शिफ्ट में काम करने से इस महत्वपूर्ण हार्मोन के उत्पादन और परिसंचरण में बाधा आती है।

यह भी पढ़ें: जंगल में मिलने वाली त्रिफला है डायबिटीज के लिए रामबाण

मोटापा और डायबिटीज का खतरा

दिन में सोने और रात में काम करने से मोटापा और डायबिटीज का खतरा बढ़ जाता है। नाईट शिफ्ट में काम करने वालों के मामले में , ये विकार हार्मोन उत्पादन में असंतुलन के कारण होते हैं। यहां वास्तविक खतरा यह है कि भले ही आप स्वस्थ आहार लें, फिर भी हार्मोन असंतुलन मोटापे और डायबिटीज का कारण बन सकता है।

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याओं का खतरा

यदि आप लंबे समय तक नाईट शिफ्ट में काम करते हैं, तो दस्त और अल्सर जैसी गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याएं पैदा कर सकते हैं। इससे आपकी पहले से मौजूद समस्याएँ और बढ़ सकती हैं और अधिक गंभीर चिकित्सा संबंधी चिंताएँ पैदा हो सकती हैं।

यह भी पढ़ें: रीनल फंक्शन टेस्ट क्या है और क्यों किया जाता है?

विटामिन डी की कमी

विटामिन डी आपके स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है। आप पनीर, दही, टोफू और सैल्मन जैसे खाद्य पदार्थ खाकर विटामिन डी प्राप्त कर सकते हैं। लेकिन आप अधिकांश विटामिन डी सूर्य की रोशनी से अवशोषित करते हैं। जब आप नाईट शिफ्ट में काम करते हैं और दिन में सोते हैं, तो आपके शरीर को ठीक से काम करने के लिए आवश्यक विटामिन डी नहीं मिल पाता है।

विटामिन डी यह कैल्शियम के अवशोषण में सहायता करता है और हड्डियों के विकास को बढ़ावा देता है। बहुत कम विटामिन डी के परिणामस्वरूप ऑस्टियोमलेशिया (हड्डियों का अजीब आकार) के साथ-साथ कई अन्य विकार भी होते हैं, जैसे:

  • स्तन कैंसर
  • पेट का कैंसर
  • प्रोस्टेट कैंसर
  • दिल की बीमारी
  • तनाव

यह भी पढ़ें: वजन के साथ डायबिटीज भी नियंत्रित करेगी कलौंजी

नाईट शिफ्ट का असर और उसके प्रभावों से निपटने के तरीके

नाईट शिफ्ट का असर नकारात्मक ही होता है इसलिए उससे बचने के तरीके के बारे में नीचे विस्तार से बताया गया है:

सोने का टाइम फिक्स करें

अगर आप सुबह के 6 बजे सोते हैं तो दोपहर के 1-2 बजे तक उठ जाएं। आपको हर दिन 7-8 घंटे की नींद चाहिए। जरूरत से ज्यादा सोना आपकी सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकता है।

उन लोगों की मदद लें जिनके साथ आप रहते हैं

यदि आप नाईट शिफ्ट में काम करने में सफल होने की आशा रखते हैं तो आपके परिवार का सहयोग महत्वपूर्ण है। ऐसी आवश्यक गतिविधियों को संतुलित करने के लिए आप सभी को मिलकर काम करने की आवश्यकता होगी:

  • परिवार के लिये समय
  • शेड्यूल बनाए रखना
  • भुगतान बिल
  • खरीदारी
  • घर का काम

आपको शांत समय स्थापित करने में भी उनकी मदद की आवश्यकता होगी ताकि आप रात में काम करने के लिए आवश्यक नींद ले सकें।

यह भी पढ़ें: फॉलो करें ये डायबिटीज फूड चार्ट, काबू में रहेगा ब्लड शुगर

कैफीन से बचें

कैफीन एक उत्तेजक पदार्थ है जिसका उपयोग आपको त्वरित ऊर्जा प्रदान करने और आपको जगाए रखने के लिए किया जाता है। कैफीन प्रभाव महसूस होने के बाद आपके सिस्टम में घंटों तक रहता है, और यह आपको काम के बाद अच्छी नींद लेने से रोक सकता है।

शराब से बचें

शराब से आपको जल्दी नींद आ सकती है, लेकिन यह रैपिड-आई-मूवमेंट (आरईएम) नींद को भी कम कर देती है। आरईएम नींद आपके नींद चक्र का पुनर्स्थापनात्मक चरण है, इसलिए यदि आप शराब का सेवन करके इसमें हस्तक्षेप करते हैं, तो आप प्रभावी रूप से अपने शरीर की खुद को ठीक करने की क्षमता में हस्तक्षेप करते हैं।

यह भी पढ़ें: डाइट में शामिल करें ये वेज रिच प्रोटीन फूड, नॉनवेज से ज्यादा मिलेंगे फायदे

सही वातावरण में सोएं

सही वातावरण में सोने से आप कितनी अच्छी और कितनी देर तक सोते हैं, इस पर बड़ा प्रभाव पड़ सकता है। यह सुनिश्चित करने के पांच तरीके यहां दिए गए हैं कि आप जहां सोते हैं, वह आपकी नींद की गुणवत्ता में हस्तक्षेप नहीं कर रहा है:

  1. अपने कमरे को ठंडा रखें (68°F से नीचे)।
  2. अपने कमरे को यथासंभव अँधेरा बनायें।
  3. आपके कमरे में शांति हो।
  4. स्लीप मास्क और इयरप्लग पहनने पर विचार करें।
  5. बिस्तर पर जाने से दो घंटे पहले सभी इलेक्ट्रॉनिक्स बंद कर दें।

यह भी पढ़ें: गोजी बेरी – जानिए इस सुपर फूड के 10 अदभुत लाभ

सही डाइट लें

यदि आप लगातार नाईट शिफ्ट में काम करते हैं, तो दिन के समान ही खाने का प्रयास करें, भले ही आपको कम खाने का मन हो। स्वस्थ आहार बनाने में आपकी सहायता के लिए यहां कुछ और सुझाव दिए गए हैं:

  • खूब पानी पिएं लेकिन सोने से कई घंटे पहले रुक जाएं
  • अपने दिन के अंत में शर्करा युक्त खाद्य पदार्थों से बचें
  • रात की पाली में काम करते समय तला हुआ, मसालेदार औरबाहर का खाना बंद कर दें
  • अपने आहार में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और वसा का सही संतुलन शामिल करें।

यह भी पढ़ें: प्रोलैक्टिन टेस्ट क्या है और इसे कराना क्यों जरुरी है?

शरीर को देते रहें ब्रेक

प्रकृति से विपरीत चलने पर शरीर को बहुत काम करना पड़ता है। यह बढ़ता प्रेशर नुकसानदायक हो सकता है इसलिए बॉडी को जरूरत पड़ने पर ब्रेक देते रहें। अगर एक या दो दिन थकान के कारण वर्कआउट छूटता है तो टेंशन ना लें। थोड़ा आराम करें और फिर से काम शुरू करें।

यह भी पढ़ें: डायबिटीज वाले लोगों के लिए गेहूं से ज्यादा फायदेमंद है जौ

उम्मीद है आपको इस ब्लॉग से नाईट शिफ्ट का असर जानने को मिल गया होगा। स्वास्थ्य से जुड़ी ऐसी ही महत्पूर्ण जानकारी और एक सही डायबिटीज मैनेजमेंट के बारे में जानने के लिएBeatOके साथ बने रहिये।

यदि आप ग्लूकोमीटर ऑनलाइन खरीदना चाह रहे हैं या ऑनलाइन हेल्थ कोच बुक करना चाहते हैं तो यहां क्लिक करें। Beatoapp घर बैठे आपकी मदद करेगा।

डिस्क्लेमर: इस लेख में बताई गयी जानकारी सामान्य और सार्वजनिक स्रोतों से ली गई है। यह किसी भी तरह से चिकित्सा सुझाव या सलाह नहीं है। अधिक और विस्तृत जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने डॉक्टर से परामर्श लें। BeatoApp इस जानकारी के लिए जिम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?

Himani Maharshi

Himani Maharshi

हिमानी महर्षि, एक अनुभवी कंटेंट मार्केटिंग, ब्रांड मार्केटिंग और स्टडी अब्रॉड एक्सपर्ट हैं, इनमें अपने विचारों को शब्दों की माला में पिरोने का हुनर है। मिडिया संस्थानों और कंटेंट राइटिंग में 5+ वर्षों के अनुभव के साथ, उन्होंने मीडिया, शिक्षा और हेल्थकेयर में लगातार विकसित हो रहे परिदृश्यों को नेविगेट किया है।

Leave a Reply

Index