Home»Blog»फ़ूड और न्यूट्रीशंस » आयुर्वेद में सहजन को बताया गया है 300 बीमारियों का रामबाण इलाज: Benefits of Drumstick in Hindi

आयुर्वेद में सहजन को बताया गया है 300 बीमारियों का रामबाण इलाज: Benefits of Drumstick in Hindi

4313 0
2.5
(2)

एक बार फिर से लोग आयुर्वेद की तरफ रूख कर रहे हैं. लोग इसकी औषधी और उपायों पर भरोसा करने के साथ ही उन्हें अपना रहे हैं. आयुर्वेद में बहुत से फल और सब्जियों के फायदे के बारे में बताया गया है, जिसमें से एक सहयज या मोरिंगा है. आयुर्वेद में सहजन को करीब 300 बीमारियों का रामबाण इलाज बताया गया है. इतना ही नहीं इसके फूल, फलियां और पत्तियां सहित पेड़ हर भाग बहुत फायदेमंद होता है. वहीं, यह कई बीमारियों के इलाज में फायदेमंद है. सहजन की फली का इस्तेमाल दाल, सांबर, सब्जी बनाने में किया जाता है. इसमें पाए जाने वाले गुणों के चलते इसे इसका सेवन करने के कई फायदे मिलते हैं. इसलिए आइये जानते हैं सहजन खाने के फायदे के बारे में.

सहजन के पोषक तत्व (Nutrients of Drumstick in Hindi)

आयुर्वेद के मुताबिक, सहजन में कई पोषक तत्व पाए जाते हैं. इसमें कैल्शियम, पोटैशियम, आयरन, डाइटरी फाइबर, प्रोटीन, सोडियम, कार्बोहाइड्रेट, फास्‍फोरस, जिंक जैसे मिनरल्स और खनिज पाए जाते हैं. इसके साथ ही सहजन में विटामिन-A, विटामिन-B1, विटामिन-B2, विटामिन-B3, विटामिन-B5, विटामिन-B6, विटामिन-B9, और विटामिन-C भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं. वहीं, सहजन में एंटीफंगल, एंटीवायरल, एंटी डिप्रेसेंट और एंटी इंफ्लेमेटरी गुण भी पाए जाते हैं. जिसके चलते सहजन खाने के कई फायदे मिलते हैं.

Free Doctor Consultation Blog Banner_1200_350_Hindi

ये भी पढ़ें- एक छोटे से जीरे में छिपा है कई बीमारियों का इलाज, जानें खाने के फायदे

सहजन खाने के फायदे (Benefits of Drumstick in Hindi)

जैसा की आपने देखा कि सहजन में कितने सारे पोषक तत्व, विटामिन और गुण पाए जाते हैं. जिसके चलते ही सहजन खाने के करीब 300 फायदे मिलते हैं. जिसमें से कुछ सहजन खाने के फायदे के बारे में हम यहां पर बता रहे हैं.

  1. जो लोग मोटापे से परेशान है और उसे कम करना चाहते हैं, वो लोग अपनी डाइय में सहजन को शामिल कर सकते हैं. इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व पेट की चर्बी को कम करने में मदद करते हैं. इसका काढ़ा बनाकर पीने से ज्यादा फायदा मिलता है. इसके साथ ही इसका काढ़ा पीने से हड्डियां भी मजबूत होती है.
  2. सहजन में भरपूर मात्रा में विटामिन-C पाया जाता है. वहीं इसमें एंटीवायरल गुण भी होता है. जिसके चलते इसका सेवन करने से इम्यून सिस्टम मजबूत होता है. जिससे आप मौसमी बीमारियों से दूर रहते हैं.
  3. सहजन का सेवन करने से आपका दिमाग तंदुरुस्त होने के साथ ही याददाश्त भी बेहतर होती है. इतना ही नहीं इसे रोजाना खाने से मस्तिष्क से संबंधित कोई समस्या है तो भी दूर होती जाती है. वहीं, आप कई सक्रमण से भी बचे रहते हैं.
  4. सहजन खाने से पेट की कई समस्याएं दूर होती है. इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व पेट में दर्द, अल्सर जैसी समस्या से निजात दिलाते हैं. वहीं, सहजन लीवर और किडनी को डिटॉक्सीफाई करने, तनाव, चिंता दूर करने, थायराइड फंक्शन को दूरुस्त करने में फायदेमंद होता है.
  5. सहजन या मोरिंगा में पाए जाने वाले पोषक तत्व थकावट और कमजोरी को दूर करने में मददगार होता है. इसमें विटामिन-A और आयरन भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं, जो कमजोरी को दूर करता है. साथ ही शरीर में खून की कमी को भी दूर करने में मददगार होता है.

ये भी पढ़ें- सेहत के लिए वरदान है शरीफा, जानें हैरान कर देने वाले फायदे

डायबिटीज में सहजन खाने के फायदे (Diabetes Benefits of Drumstick in Hindi)

सहजन में एंटी-डायबिटीक गुण पाए जाते हैं. जिसके चलते डायबिटीज में सहजन खाने के बहुत से फायदे मिलते हैं. इसमें फाइटोकेमिकल्स होते हैं, जो ब्लड शुगर के लेवल कम करता है. इसके साथ ही यह ब्लड ग्लूकोज के लेवल को कम करता है. वहीं, एक शोध के मुताबिक, सहजन के पत्तों के रस में डायबिटीज के वृद्धि को कम करने के मददगार होते हैं. इसके साथ ही यह प्रोटीन व इंसुलिन हार्मोन के बनाने में भी मदद करते हैं.

सहजन खाने के नुकसान (Side Effects of Drumstick in Hindi)

भले ही आयुर्वेद में सहजन खाने के करीब 300 तक फायदे बताए गए हैं, लेकिन इसके कई नुकसान भी है. आइये जानते इसके नुकसान के बारे में.

  1. सहजन में भले ही कई पोषक तत्व पाए जाते है, फिर भी इसका सेवन गर्भवती महिलाओं को नहीं करना चाहिए. ये प्रजनन-विरोधी एजेंट के रूप में काम करता है. जिसके कारण गर्भपात हो सकता है. इसके साथ ही डिलीवरी के बाद भी महिलाओं को सहजन का सेवन करने से बचना चाहिए.
  2. सहजन खाने से हाई ब्लड प्रेशर की समस्या हो सकती है. इसलिए जिनका ब्लड प्रेशर बढ़ा हुआ रहता है, उन्हें सहजन का सेवन नहीं करना चाहिए.
  3. सहजन का अधिक मात्रा में सेवन करने से शरीर में पित्त की समस्या का सामना करना पड़ सकता है. इसलिए पीरियड्स के दौरान सहजन का सेवन करने से बचना चाहिए.
  4. सहजन की तासीग गर्म होती है. इसलिए जिन लोगों को गर्मी की समस्या (एसिडिटी, ब्लीडिंग, पाइल्स, भारी मासिक धर्म, मुंहासे) का सामना करना पड़ता है, उनके इसे खाने से बचना चाहिए. नहीं तो सहजन फायदे की जहग नुकसान पहुंचा सकता है.

ये भी पढ़ें- वजन-कोलेस्ट्रॉल-डायबिटीज सबकुछ होगा कंट्रोल, बस रोजाना खाएं हरा धनिया

उम्मीद है आपको इस ब्लॉग में सहजन खाने के फायदे के बारे में पता चल गया होगा. क्या आप अपने ब्लड शुगर लेवल की जांच के लिए सही ग्लूकोमीटर की तलाश कर रहे हैं? तो BeatO का सस्ता और टिकाऊ स्मार्ट ग्लूकोमीटर किट आजमाएं। ऑनलाइन शुगर टेस्टिंग मशीन खरीदना कभी इतना आसान नहीं रहा, BeatO का सर्वश्रेष्ठ ग्लूकोमीटर आजमाएँ और अभी अपना ब्लड शुगर लेवल चैक करें।

डिस्क्लेमर: इस लेख में बताई गयी जानकारी सामान्य और सार्वजनिक स्रोतों से ली गई है। यह किसी भी तरह से चिकित्सा सुझाव या सलाह नहीं है। अधिक और विस्तृत जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने डॉक्टर से परामर्श लें। BeatoApp इस जानकारी के लिए जिम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 2.5 / 5. Vote count: 2

No votes so far! Be the first to rate this post.

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?

BeatO स्टाफ राइटर

BeatO स्टाफ राइटर

BeatO इन-हाउस राइटिंग टीम द्वारा प्रकाशित रचनात्मक रूप से लिखे गये सेहत संबंधी लेख।

Leave a Reply

Index