Home»Blog»डायबिटीज बेसिक्स » शादी से पहले कपल जरूर करवाएं ये टेस्ट, स्वस्थ और मस्त बीतेगी जिंदगी: VDRL Test in Hindi

शादी से पहले कपल जरूर करवाएं ये टेस्ट, स्वस्थ और मस्त बीतेगी जिंदगी: VDRL Test in Hindi

321 0
0
(0)

अगर आप शादी करने जा रहे हैं तो आपको वीडीआरएल टेस्ट यानी वेनेरियल डिजीज रिसर्च लेबोरेटरी टेस्ट (VDRL Test in Hindi) जरूर करवाना चाहिए. इस टेस्ट की मदद से यौन संबंधी बीमारी (Sexually transmitted disease) सिफिलिस के बारे में पता लगाया जाता है. सिफिलिस एक तरह का बैक्टिरिया होता है, जो आपको मुंह या जेनेटल अंगों के जरिए शरीर के अंदर घुसता है. जब ये आपको शरीर में घुसता है तो यह शुरुआत में बिना दर्द वाले घाव की तरह होता है. जो आगे चलकर रैशेस में बदल जाता है. अगर इसका सही समय पर पता नहीं लगे तो आगे चलकर यह आपको लिए बहुत ही कष्टदायक हो जाता है. जिसकी वजह से आपको कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है.

क्या है सिफलिस की बीमारी (What is Syphilis Disease)

VDRL Test के जरिए जिस चीज के बारे में पता लगाया जाता है वो है सिफिलिस. ये एक तरह की दुर्लभ बीमारी होती है जो बैक्टीरिया ट्रीपोनेमा पैलेडियम से लोगों को होती है. ये बीमारी आपको जेनेटिक ऑर्गेन, रेक्टम और मुंह से फैलती है. अगर इसका पता शुरुआती स्टेज में नहीं पकड़ में नहीं आए तो आपको दिमाग, दिल और नर्वस सिस्टम को बुरी तरह से नुकसान पहुंचा सकती है. इस बीमारी के लक्षण दर्दरहित घाव, रैसेस यानि चकत्ते और Lymph Nodes में सूजन का दिखाई देना है. इसके अलावा सिफिलिस के मरीज में कम दिखाई देना या अंधापन, गले में खराश, सिर दर्द, वजन का घटना, अत्यधिक थकावट का होना है.

sugar haregi desh jitega runner curv glucometer_runner

ये भी पढ़ें-हार्ट अटैक से बचना है तो जरूर करवाएं लिपिड प्रोफाइल टेस्ट

क्यों किया जाता है वीडीआरएल टेस्ट (Why is VDRL test in Hindi)

इस टेस्ट में सेक्सुअल बीमारी सिफिलिस के बारे में पता लगाया जाता है. इसके लक्षण दिखाई देने पर डॉक्टर VDRL Test के साथ ही रूटीन टेस्ट या फुल बॉडी चेकअप करने की सलाह देते हैं. वहीं, अगर आप एक गर्भवती महिला है तो आपको STD चेक करवाने के लिए भी कह सकते हैं.

वीडीआरएल टेस्ट में मरीज के ब्लड सैंपल को टेस्ट करने के लिए लेबोरेटरी भेजा जाता है. जहां पर उसमें एंटीबॉडीज चेक किया जाता है. ये एक ऐसा टेस्ट है जिसमें आपको भुखे पेट रहने की जरूरत नहीं होती है. इसके साथ ही अगर आप किसी तरह के दवा का सेवन कर रहे हैं तो उसे भी छोड़ने की जरूरत नहीं है. अगर आप बीमारी के आखिरी स्टेज पर हैं, तो डॉक्टर आपको spinal fluid test करने के लिए भी कहता है. इस टेस्ट का रिजल्ट आने में 3 से 5 दिन लगते हैं. इस टेस्ट को किसी भी लेबोरेटरी में करवाया जा सकता है.

ये भी पढ़ें- ईसीजी टेस्ट बताएगा कितना हेल्दी है आपका दिल

कैसे देखें VDRL Test रिजल्ट (How to see VDRL Test Result in Hindi)

नॉर्मल रिजल्ट

VDRL Test का रिजल्ट अगर निगेटिव आता है तो आपको ब्लड में किसी तरह के कोई एंटीबॉडीज नहीं मिले है. इससे साफ पता चलता है कि आपके शरीर में सिफलिस बैक्टिरिया नहीं है. इस टेस्ट के रिजल्ट कई बार गलत तरह से निगेटिव आ सकते हैं. टेस्ट के रिजल्ट तब गलत आ सकते हैं जब जब सिफिलिस अपने आखिरी स्टेज में हो या फिर अभी अपने पहले स्टेज में हो.

असामान्य रिजल्ट

अगर VDRL Test का रिजल्ट जब पॉजिटीव आए तो इसका सीधा मतलब है कि आप सिफिलिस के शिकार हो चुके हैं. इस टेस्ट का पॉजिटिव आना यह बताता है कि आपके शरीर में सिफलिस से लड़ने वाले एंटीबॉडीज मौजूद हैं, जो शरीर में बैक्टीरिया में होने की तरफ इसारा करते हैं. टेस्ट का पॉजिटिव रिजल्ट शुरुआती या लेटेंट अवस्था में आ सकते हैं. आपको बता दें कि यह टेस्ट कई बार गलत तरीक से भी पॉजिटिव आ सकते हैं. ऐसा तभी होता है जब मरीज पहले से दूसरी बीमारियों जैसे एचआईवी, मलेरिया, लाइम डिजीज, निमोनिया या सिस्टमिक लुपस एरीथेमाटोसस से ग्रसित हो.

ये भी पढ़ें-HBsAg टेस्ट क्या है, क्यों और कैसे किया जाता है, यहां जानें सबकुछ

सिफलिस का उपचार और रोकथाम (Treatment and Prevention of Syphilis)

सिफिलिस के शिकार होने के कई कारण हो सकते हैं. जो निम्नलिखित है.

  • किसी पॉजिटीव व्यक्ति से सेक्सुअल रिलेशन बनाया हो.
  • अगर आपको HIV हो.
  • मरीज के कई सारे सेक्सुअल पार्टनर्स हो.
  • अगर मरीज को किसी तरह का STD हो.
  • यह बीमारी अगर किसी गर्भवती महिला को हो तो यह उसके बच्चे को भी हो सकता है. अगर सही समय पर इसका इलाज नहीं करवाया जाए तो बच्चे के जन्म के दौरान या उसके बाद या फिर जन्म के 28 दिनों के अंदर उसकी मौत हो सकती है.

सिफिलिस के इलाज के दौरान मरीज को एंटीबायोटिक दवाइयां दी जाती है, जो बीमारी के स्टेज और लक्षण के पर डिपेंड करता है. इस बीमारी के इलाज एक तय समय तक चलता है. जिसमें आपको इसके दवाइयों का पूरा कोर्स करना पड़ता है. इस बीमारी में मरीज को आमतौर पर एंटीबायोटिक के रूप में पेनिसिलिन दी जाती है, जो शरीर में बैक्टिरिया को डेवलप होने से रोकती है. ये ऐसी बीमारी है कि जिसमें आपका और आपके पार्टनर दोनों को इलाज साथ में किया जाता है. इस बात को जरूर ध्यान में रखें कि ये आपको दोबारा भी हो सकती है. अगर आप इस बीमारी से पूरी से ठीक हो चुके हैं भी तो आपको इसको लेकर सतर्क रहना होगा.

ये भी पढ़ें- थायरॉइड मरीज ऐसे समझे अपनी टेस्‍ट रिपोर्ट

वहीं यह एक ऐसी बीमारी है, जो यौन संबंध से फैलती है. इसलिए बेहद जरूरी है कि जब भी आप किसी से भी यौन संबंध बना रहे हैं तो कंडोम का इस्तेमाल जरूर करें. एक से ज्यादा यानी मल्टीप्ल सेक्सुअल रिलेशन एकदम नहीं रखें. अगर आप ऐसा करते भी हैं तो समय-समय पर सिफलिस का चेकअप जरूर करवाते रहें.

इतनी होती है वीडीआरएल टेस्ट की कीमत (Price of VDRL Test in Hindi)

VDRL (Venereal Disease Research Laboratory) की कीमत अलग-अलग लोबोरोटरी में अलग-अलग होती है. लेकिन इस टेस्ट की कीमत 250 रुपये से लेकर 400 रुपये तक होती है.

अपने नॉन-वेरिफाइड ग्लूकोमीटर का इस्तेमाल बंद करें और BeatO का चिकित्सकीय रूप से प्रमाणित ग्लूकोमीटरकिट अपनाएं और तुरंत अपने शुगर लेवल की जाँच करें। सही डायबिटीज मैनेजमेंट के लिए BeatOडायबिटीज केयर प्रोग्रामका हिस्सा बनें।

डिस्क्लेमर: इस लेख में बताई गयी जानकारी सामान्य और सार्वजनिक स्रोतों से ली गई है। यह किसी भी तरह से चिकित्सा सुझाव या सलाह नहीं है। अधिक और विस्तृत जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने डॉक्टर से परामर्श लें। BeatoApp इस जानकारी के लिए जिम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?

BeatO स्टाफ राइटर

BeatO स्टाफ राइटर

BeatO इन-हाउस राइटिंग टीम द्वारा प्रकाशित रचनात्मक रूप से लिखे गये सेहत संबंधी लेख।

Leave a Reply

Index