Home»Blog»डायबिटीज बेसिक्स » HBsAg टेस्ट क्या है, क्यों और कैसे किया जाता है, यहां जानें सबकुछ

HBsAg टेस्ट क्या है, क्यों और कैसे किया जाता है, यहां जानें सबकुछ

159 0
0
(0)

शरीर का एक महत्वपूर्ण हिस्सा लिवर यानी पाचन तंत्र होता है. जिसमें हल्की सी भी समस्या आने पर इसका प्रभाव पूरे शरीर पर पड़ता है. इसमें कई बार सूजन हो जाती है, जिसे हेपेटाइटिस कहा जाता है. जो वायरल इन्फेक्शन, शराब और दवाओं के अधिक सेवन और कई अन्य मेडिकल कंडीशन के कारण देखने को मिलते हैं. समय रहते अगर इसका इलाज नहीं करवाया जाए तो लिवर में हेपेटाइटिस के कारण क्रोनिक लिवर डिजीज, लिवर सिरोसिस और लिवर कैंसर जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है. इन खतरों से बचने के लिए और हेपेटाइटिस-B बीमारी का पता लगाने के लिए HBsAg टेस्ट (Hepatitis B surface antigen) किया जाता हैं. हम यहां पर बता रहे हैं कि HBsAg Test क्यों किया जाता है. वहीं, अगर आपका टेस्ट पॉजीटीव है तो आपको क्या करना चाहिए.

Free Doctor Consultation Blog Banner_1200_350_Hindi

ये भी पढ़ें- जामुन के फायदे- डायबिटीज से लेकर कई बीमारियों की होगी छुट्टी

एचबीएसएजी टेस्ट क्या है (What is HBsAg Test in Hindi)

HBsAg टेस्ट के जरिए यह पता लगाया जाता है कि व्यक्ति को काफी पहले से या हाल में हेपेटाइटिस बी वायरस (एचबीवी) से संक्रमित हुआ है या नहीं. इसे आप इस तरह से भी समक्ष सकते हैं कि इस टेस्ट का इस्तेमाल ब्लड में हेपेटाइटिस बी सरफेस एंटीजन का पता लगाने के लिए किया जाता है. इस टेस्ट के जरिए यह पता लगाया जाता है कि किस वायरस के जरिए आप हेपेटाइटिस बी के शिकार हुए है या आप उससे पहले से संक्रमित है. अगर इस टेस्ट में स्पेसिफिक एंटीबॉडी पाए जाते हैं, तो इसका मतलब होता है कि व्यक्ति को हेपेटाइटिस बी संक्रमण है.जो बताता है कि आपका एचबीएसएजी टेस्ट (HBsAg Test in hindi) पॉजिटीव है.

HBsAg टेस्ट क्यों किया जाता है


HBsAg टेस्ट को हेपेटाइटिस बी वायरस का पता लगाने के लिए किया जाता है. ताकि इसे दूसरों में फैलने से रोका जा सकें. दरअसल हेपेटाइटिस बी से संक्रमित है उनसे रक्त या शरीर के तरल पदार्थों के जरिए से दूसरों तक पहुंच सकता है. हेपेटाइटिस बी वायरल संक्रमण का सही समय पर पता लगाने और उसकी दवा शुरू करने के लिए HBsAg टेस्ट को किया जाता है. वहीं इसका टेस्ट कराना इसलिए भी जरूरी होती है क्योंकि हेपेटाइटिस बी के लक्षण बहुत से लोगों में नहीं दिखाई देता है. वहीं, बहुत से लोगों में बहुत कम फ्लू के रूप में दिखाई देता है.

ये भी पढ़ें- अदरक से वजन-डायबिटीज-बीपी सबकुछ होगा कंट्रोल, जानें खाने के गजब के फायदे: Benefits of Ginger in Hindi

HBsAg टेस्ट की प्रक्रिया


HBsAg टेस्ट की प्रक्रिया बहुत ही सरल होती है. इस टैस्ट के दौरान आपका ब्लड सैंपल लिया जाता है. इसके बाद टेस्ट के लिए लैब भेजा जाता है. ये टेस्ट उन लोगों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होता है जो हेपेटाइटिस बी के वायरस से पहले से संक्रमित है. इस टेस्ट को लक्षणों के डेवलप होने से पहले उसका इलाज करने में मदद करता है. इसके साथ ही इस टेस्ट से यह भी पता चल जाता है कि जो पहले से हेपेटाइटिस बी पॉजिटीव है, उसकी बॉडी ने वायरस से लड़ने के लिए इम्यूनिटी डेवलप की है.

ऐसे देखें HBsAg टेस्ट का रिजल्ट


इस टेस्ट को आमतौर पर हेपेटाइटिस बी के टेस्ट के एक पैनल के रूप में किया जाता है. इस टेस्ट के पैनल में हेपेटाइटिस बी कोर एंटीबॉडी (HBcAb) और हेपेटाइटिस बी सतह एंटीबॉडी (HBsAb) में किसी एक को शामिल किया जा सकता है. अगर आपका HBsAg टेस्ट का रिजल्ट पॉजिटिव है तो इसका सीधी सा मतलब है कि आप हेपेटाइटिस बी वायरस की चपेट में है और यह आपसे दूसरों में फैल सकता है. वहीं, अगर आपका टेस्ट पॉजिटिव आता है तो इसके बाद एक और टेस्ट किया जाता है, जिसमें पता लगाया जाता है कि हेपेटाइटिस बी का वायरस आप में एक्टिव है या नहीं.

ये भी पढ़ें- आयुर्वेद में सहजन को बताया गया है 300 बीमारियों का रामबाण इलाज: Benefits of Drumstick in Hindi

अगर टेस्ट निगेटिव हो

अगर टेस्ट रिजल्ट में ये दिखाई देता है कि हेपेटाइटिस बी का इंफेक्शन इनएक्टिव है तो आपसे ये दूसरों में नहीं फैलेगा. लेकिन इसके बावजूद आप एक वायरस की तरह है और यह फिर से आप में एक्टिव हो सकता है. वहीं, अगर आप इससे छह महीने से अधिक समय से इंफेक्टेड है तो आपको लीवर से संबंधित समस्याएं हो सकती है.

अगर टेस्ट पॉजिटिव हो

अगर आपका HBsAg टेस्ट पॉजिटिव आता है तो डॉक्टर इसका डाइग्नोसिस करने और वायरस की मात्रा का पता लगाने के लिए कुछ और टेस्ट करने के लिए कह सकते हैं. जिनमें हेपेटाइटिस बी वायरल लोड टेस्ट या लीवर एंजाइम एलेनिन एमिनोट्रांस्फरेज (ALT) और एस्पार्टेट एमिनोट्रांस्फरेज (AST) टेस्ट शामिल हो सकते हैं.

ये भी पढ़ें- Benefits of Cumin in Hindi: एक छोटे से जीरे में छिपा है कई बीमारियों का इलाज, जानें खाने के फायदे

इन कारणों से HBsAg टेस्ट की दी जाती है सलाह

  1. अगर आपको या आपके परिवार के किसी सदस्य को पहले कभी लिवर की समस्या, सिरोसिस या लिवर कैंसर हुआ हो.
  2. अगर आपके परिवार में किसी को हेपेटाइटिस बी है, या फिर आप किसी ऐसे व्यक्ति के संबंध में जो कि इससे पीड़ित है या रह चुका है.
  3. किसी तरह की सर्जरी या ऑर्गन ट्रांसप्लांट से पहले एचबीएसएजी टेस्ट करने के लिए कहा जाता है.
  4. जिन लोगों को ड्रग्स की लत है या जो लोग दूसरों की सिरिंज या सुई का इस्तेमाल करते हैं.
  5. जो लोग कई लोगों के साथ शारीरिक संबंध बनाते हैं.
  6. गर्भवती महिलाओं का भी ये टेस्ट होता है.
  7. इसके साथ ही उन बच्चों का भी एचबीएसएजी टेस्ट किया जाता है, जिनकी मां इससे पॉजिटिव होती है या रही है.

ये भी पढ़ें- TSH Test in Hindi: थायरॉइड मरीज ऐसे समझे अपनी टेस्‍ट रिपोर्ट

सही शुगर टेस्टिंग स्ट्रिप्स और ग्लूकोमीटर ढूंढना थोड़ा मुश्किल है इसलिए BeatO आपके लिए एक ही छत के नीचे आपकी जरूरत की सभी चीजें लाया है। BeatO के स्मार्ट ग्लूकोमीटर किट को आज़माएं और नियमित अपने शुगर लेवल की जाँच करें।

डिस्क्लेमर: इस लेख में बताई गयी जानकारी सामान्य और सार्वजनिक स्रोतों से ली गई है। यह किसी भी तरह से चिकित्सा सुझाव या सलाह नहीं है। अधिक और विस्तृत जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने डॉक्टर से परामर्श लें। BeatoApp इस जानकारी के लिए जिम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?

BeatO स्टाफ राइटर

BeatO स्टाफ राइटर

BeatO इन-हाउस राइटिंग टीम द्वारा प्रकाशित रचनात्मक रूप से लिखे गये सेहत संबंधी लेख।

Leave a Reply

Index